उत्तर प्रदेश BC सखी योजना रजिस्ट्रेशन | आवेदन पत्र ऑनलाइन फॉर्म

सखी योजना: BC सखी योजना को उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री श्री योगी आदित्यनाथ जी द्वारा शुरू की गई है इस योजना की शुरुआत 22 मई 2020 को सर्वप्रथम शुरू की गई थी और इस योजना को शुरू करने का उद्देश्य यही है कि महिलाओं को अधिक सशक्त किया जाए आत्मनिर्भर बन पाए । इस योजना के तहत यूपी सरकार ने ग्रामीण क्षेत्रों के बैंकों में “कॉरेस्पोंडेंस सखी” तैनात करने का फैसला किया है| ग्रामीण क्षेत्र में रहने वाली महिलाओं के लिए ही इस योजना को शुरू किया गया है ताकि उन्हें बैंकों के चक्कर न लगाने पर आएं और घर पर ही बैंक द्वारा प्रदान की जाने वाले विभिन्न सुविधाओं का लाभ “सखी” के माध्यम से प्राप्त कर सके। इस आर्टिकल में हम आपको उत्तर प्रदेश “BC सखी योजना” से संबंधित संपूर्ण जानकारी उपलब्ध करने जा रहे हैं।

उत्तर प्रदेश सखी योजना के अंतर्गत ग्रामीण क्षेत्र के लिए घर पर ही बैंकिंग सुविधाएं उपलब्ध की जाती है। महिलाओं को इससे लेन-देन करने में भी सुविधा है| “यूपी बैंकिंग संवाददाता सखी योजना 2020” प्रदेश की महिलाओं के लिए एक बहुत ही उत्कृष्ट योजना है| इससे महिलाएं कमाई करने में अधिक सक्षम होगी। इस योजना से महिलाओं को 6 महीने तक 4000 रुपए की धनराशि प्रति महीने सरकार द्वारा दी जाएगी| इसके तक महिलाओं को बैंकों से लेनदेन करने पर भी कमीशन प्रदान किया जाएगा जिससे उनकी हर महीने आए निश्चित हो जाएगी|

बैंक सखी योजना

यूपी सरकार द्वारा शुरू की गई यह योजना काफी सराहनीय है राज्य की महिलाओं को सशक्त करने के लिए इस सूचना को शुरू किया गया है। इस योजना के तहत बैंकिंग कॉर्पोरेट सखी को तैयार करने के लिए कुल 74000 का खर्च आएगा| 6 महीने का प्रोत्साहन राशि सरकार द्वारा दिया जाएगा यह राशि इसीलिए प्रदान की जा रही है ताकि महिलाओं को किसी प्रकार की आर्थिक दिक्कत ना हो और यदि दिक्कत आए तो इस काम को ना छोड़े। ग्रामीण क्षेत्रों में महिलाओं को अपने दरवाजे पर लोगों को बैंकिंग सेवाएं प्रदान करने के लिए प्राथमिकता मिलेगी| इस योजना के तहत रोजगार प्राप्त करने के लिए सभी महिलाओं को आवेदन करना होगा|

उत्तर प्रदेश सखी योजना

  • योजना का नाम- उत्तर प्रदेश BC सखी योजना
  • शुरू की गई – योगी आदित्यनाथ जी द्वारा
  • लांच की तिथि- 22 मई 2020
  • लाभार्थी- महिलाएं
  • लाभ- पहले 6 महीने प्रतिमाह ₹4000 उसके बाद बैंकिंग कार्य करने पर कमीशन के आधार पर कमाई
  • उद्देश्य- महिलाओं को अधिक सशक्त करना
  • योजना के लिए कुल बजट- 430 करोड़

इस योजना के शुरू होने से महिलाओं को बैंक जाने की कोई भी आवश्यकता नहीं है बे घर बैठे अपने पैसे का लेनदेन कर सकती हैं| कई घरों में महिलाओं को बाहर निकलने की इजाजत नहीं होती है यूपी सरकार द्वारा महिलाएं घर पर ही अपना रोजगार तथा पूंजी को संचित कर सके इसके लिए यह योजना शुरू की गई है इससे महिलाओं को रोजगार का अवसर भी प्राप्त होगा| सीएम योगी आदित्यनाथ जी द्वारा 35938 स्वयं सहायता समूह को 218.49 करोड़ रुपए का रिवाल्विंग फंड भी दिया जाएगा| महिलाओं को यह पैसा ग्रामीण आजीविका मिशन के तहत दिया जाएगा|

पात्रता

  1. उत्तर प्रदेश सरकार द्वारा शुरू की गई यह योजना है इसमें केवल उत्तर प्रदेश की महिलाएं इस योजना का लाभ उठा सकते हैं|
  2. सखी योजना के अंतर्गत महिलाओं का चयन किया जाएगा|
  3. बैंकिंग कामकाज करने के लिए महिलाओं का पढ़ा लिखा होना भी जरूरी है|
  4. महिलाओं को इलेक्ट्रॉनिक डिवाइस चलाना आना चाहिए जैसे मोबाइल, लैपटॉप, कंप्यूटर|
  5. आवेदन करने वाली महिला का 10 वीं पास होना अनिवार्य है|
सखी योजना
सखी योजना

इस योजना को पूर्ण रूप से राज्य में विकसित करने के लिए प्रदेश सरकार द्वारा 58000 बैंकिंग कॉर्पोरेट सखी की तैनाती भी की जाएगी। यह “सखियां” ग्रामीण लाओं को बैंकिंग सुविधाएं घर बैठे उपलब्ध करेंगे| लोग बैंकों से जुड़कर पैसों का लेन देना घर बैठे कर पाएंगे इससे सारा लेन-देन डिजिटल और वह इसके बारे में अधिक जानकारी प्राप्त कर पाएंगे| कोरोना वायरस के कारण देश की अर्थव्यवस्था बिगड़ चुकी है और उसे सुधारने के लिए ही राज्य सरकार द्वारा विभिन्न प्रकार के कदम उठाए जा रहे हैं| लोक डाउन लगाने से पूरा देश घर बैठे ही विभिन्न प्रकार के जरूरी कार्यों को कर रहा है चाहे वह बैंकिंग से संबंधित हो या फिर सरकारी कार्यों से।

योजना के लाभ

  1. उत्तर प्रदेश मैं इस योजना के तहत 58 हजार महिलाओं को रोजगार प्रदान किया जाएगा|
  2. ग्रामीण महिलाओं को रोजगार के अवसर प्रदान किए जाएंगे|
  3. इस योजना के तहत अगले 6 महीने तक प्रतिमाह 4000 की धनराशि सैलरी के रूप में दी जाएगी|
  4. डिजिटल डिवाइस लेने के लिए 50,000 की सहायता धनराशि बैंक प्रदान करेंगे|
  5. डिजिटल माध्यम से किए गए प्रत्येक लेनदेन पर महिलाओं को कमीशन भी प्राप्त होगा|
  6. घर बैठे ग्रामीणों को बैंकों से जुड़ी विभिन्न प्रकार की सुविधाओं का लाभ मिलेगा| बैंक में ना जाने से समय की बचत भी होगी|

ग्रामीण क्षेत्र के लोगों को डिजिटलाइज करने के लिए ही सरकार ने यह मुहिम चलाई है | विपदा के इस समय में लेन-देन घर पर कर सकेंगे| बैंकों से जुड़ी विभिन्न समस्याओं को भी वे घर पर ही सुलझा लेंगे| इस योजना का प्रमुख देश यही है कि महिलाओं को रोजगार प्रदान किया जाए और बैंक खाता धारक का तनाव कम किया जाए| लोक डाउन के समय में सामाजिक दूरी का पालन करते हुए ही इस योजना को शुरू किया है ताकि बैंकों में जाकर लंबी कतारों में ना खड़े हो और कोरोना वायरस को ना आमंत्रित करें इसी कारणवश इस योजना को शुरू किया गया है

योजना की विशेषताएं

  1. वे सभी महिलाएं जो इस योजना का लाभ प्राप्त करना चाहती हैं उन्हें ऑनलाइन आवेदन करना होगा।
  2. उत्तर प्रदेश बैंकिंग सखी योजना के अंतर्गत लगभग 58 हजार महिलाओं को रोजगार प्रदान किया जाएगा|
  3. प्रमुख रूप से प्रदेश की ग्रामीण महिलाओं को इस योजना के साथ जोड़ा जाएगा।
  4. इस योजना के तहत चुनी गई महिलाओं को नौकरी अगले 6 महीने तक प्रतिमाह 4000 की धनराशि मासिक वेतन के रूप में भी प्रदान की जाएगी|
  5. इसके अतिरिक्त महिलाओं को डिजिटल डिवाइस खरीदने के लिए 50,000 की सहायता बैंक द्वारा प्रदान की जाएगी।
  6. महिलाएं यदि डिजिटल मोड के माध्यम से लेनदेन करती है तो उन्हें कमीशन भी प्रदान किया जाएगा|
  7. इस योजना के अंतर्गत एक कॉरपोरेटर को तैयार करने के लिए लगभग 74 हजार रुपए का खर्च आएगा।
  8. 6 महीने की प्रोत्साहन राशि इसीलिए दी जाएगी ताकि महिलाएं आर्थिक दिक्कतों के कारण इस काम को छोड़े नहीं।
  9. ग्रामीण क्षेत्र की महिलाओं को घर पर ही बैंकिंग सेवाएं प्राप्त होंगी इससे देश में डिजिटलाइजेशन को भी बढ़ावा मिलेगा|

यूपी सखी योजना को लागू करने के लिए लगभग 35,988 स्वयं सहायता समूह को 218.49 करोड़ रूपए अदा करने होंगे| यह राशि 22 मई 2020 को राष्ट्रीय ग्रामीण आजीविका मिशन के तहत जारी की जाएगी। इस निधि से उन गैर सरकारी संगठनों में काम करने वाली महिलाओं को मदद मिलेंगे जो मास्क प्लेटें मसाले पैदा कर रहे हैं और सलाई क्राफ्टिंग का काम कर रहे हैं|

Other Government Scheme: Click here

कोरोना वायरस के कारण जिंदगी पर बहुत अधिक असर पड़ा है| लोगों को बहुत से कामों में अपनी बदलाव करना पड़ा है दिनचर्या में बहुत अधिक बदलाव हुआ है| उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ जी द्वारा ग्रामीण लोगों को ऑनलाइन बैंकों से जोड़ने की एक अनूठी पहल की है| उत्तर प्रदेश BC सखी योजना को बैंकिंग कॉरस्पॉडेंट सखी योजना के नाम से भी जाना जाता है| यूपी सरकार द्वारा गांवों में यह कॉर्पोरेट सखी को तैनात करने का फैसला किया है ताकि गांव की महिलाएं भी लेन-देन के के प्रति अधिक सशक्त हो|

प्रमुख बिंदु

  1. बीसी सखी योजना को बैंकिंग सखी योजना भी कहा जाता है|
  2. इस योजना के अंतर्गत अगले 6 महीने के लिए 4000 प्रतिमाह दिए जाएंगे|
  3. महिलाओं को बैंकों द्वारा ऑनलाइन लेन देन करने पर कमीशन प्रदान किया जाएगा|
  4. महिलाएं हर माह एक निश्चित आए प्राप्त कर सकते हैं|
  5. प्रदेश की महिलाओं को अधिक सशक्त करने के लिए सरकार ने इस योजना को शुरू किया है|
  6. इस योजना के तहत सीएम द्वारा 35,938 स्वयं सहायता समूह को 218.49 करोड रुपए का रिवाल्विंग फंड प्रदान किया है|
  7. ग्रामीणों को यह पैसा ग्रामीण आजीविका मिशन के तहत दिया जाएगा|
  8. इस योजना के माध्यम से ग्रामीणों को घर-घर जाकर बैंकों से जुड़ी सुविधाएं जैसे कि पैसों का लेनदेन आदि जानकारी प्रदान की जाएगी
  9. कोरोना वायरस के समय में घर से लेनदेन करने के लिए यह योजना बहुत ही अधिक कारगर है|
  10. इस योजना के तहत महिलाओं को फील्ड पर काम करने के लिए एक मोबाइल प्रदान किया जाता है जिसके माध्यम से वे विभिन्न कामों की रिपोर्टिंग करती है|

बीसी सखी के कार्य

  • बैंक खाते से जमा निकासी बीसी सखी योजना का प्रमुख कार्य है|
  • लोन से संबंधित जानकारी लोगों को उपलब्ध करना भी सखी का कार्य है|
  • स्वयं सहायता समूह के सदस्यों की सेवाएं प्रदान करना एक महत्वपूर्ण कार्य है|
  • लोन रिकवरी करना भी इस योजना के अंतर्गत सखियों को करना है|
  • जन धन योजना से संबंधित जानकारी लोगों को उपलब्ध कराना भी सखी का एक प्रमुख कार्य है|

सखी योजना छत्तीसगढ़

सभी इच्छुक उम्मीदवार जो इस योजना का लाभ उठाना चाहते हैं वे आवेदन कर सकते हैं हालांकि अभी इस योजना के लिए हाल ही में सरकार ने सूचना जारी किए हैं अभी तक इसके लिए किसी भी प्रकार के अधिक जानकारी नहीं मिले हैं दोस्तों राज्य के सभी इच्छुक उम्मीदवार जो रोजगार का अवसर इस योजना के माध्यम से प्राप्त करना चाहते हैं और सभी ग्रामीण लोगों को बैंकिंग सुविधाएं प्रदान करना चाहती हैं तो अपना रजिस्ट्रेशन करना होगा रजिस्ट्रेशन करने के लिए अभी आपको थोड़ा सा इंतजार करने की आवश्यकता है जैसे ही सरकार के द्वारा इसके लिए आधिकारिक सूचना जारी की जाती है वैसे ही हम आपको यहां पर उपलब्ध कर देंगे|

कोरोना वायरस के कारण सारा जीवन अस्त-व्यस्त हो चुका है| डायरेक्ट बेनिफिट ट्रांसफर स्कीम के जरिए लोगों के खाते में नकद सहायता राशि भेजी जा रही है। उत्तर प्रदेश की जनता को बैंकिंग सिस्टम से जोड़े रखने के लिए तथा गांव के लोगों को भी डिजिटलाइज करने के लिए सरकार ने BC SAKHI YOJANA शुरू की है|

इस योजना के पहले चरण में लगभग 58 हजार सखियों की नियुक्ति की जाएगी| इस प्रक्रिया में चयनित सभी बैंक बीसी सखी को अगले 6 महीने तक 4000 प्रति माह के हिसाब से भुगतान किया जाएगा| इससे उन्हें रोजगार का साधन भी प्राप्त होगा और गांव की महिलाएं भी बैंकों के से जुड़ी जानकारी प्राप्त कर पाएंगे| इस योजना के तहत काम करने के लिए शुरुआती कुछ महीनों में 3000 मां की सैलरी दी जाएगी| उनके द्वारा किए गए ट्रांजैक्शन से प्राप्त कमीशन से वे लगभग 10 से 12000 कमाती हैं|

आवेदन करने के लिए दस्तावेज

आधार कार्ड
शैक्षिक प्रमाण पत्र
पैन कार्ड
बैंक खाता
पासपोर्ट साइज फोटोग्राफ
स्थाई पता

up bc sakhi yojana registration

सभी इच्छुक उम्मीदवार जो ऑनलाइन आवेदन करना चाहते हैं तो आपको बैंकिंग सखी बनने के लिए नजदीकी बैंक शाखा के बैंक मैनेजर के पास जाना होगा तथा उसे संपूर्ण जानकारी को प्राप्त करना होगा | यदि आप एक CSC VLE तथा स्वयं सहायता समूह से संबंध रखते हैं तो आप CSC के माध्यम से digipay सखी ऑनलाइन आवेदन कर सकते हैं| उत्तर प्रदेश सरकार द्वारा बीसी शक्तिशाली को अगले 6 महीने तक 4000 प्रदान करने का फैसला उत्तर प्रदेश की सरकार द्वारा किया गया है| अब लोगों को विभिन्न प्रकार के बैंक से संबंधित कार्य करने के लिए बैंक जाने की आवश्यकता नहीं रहेगी इन सखियों के माध्यम से यह बैंक के विभिन्न कार्य कर सकते हैं बीसी सखी योजना के अंतर्गत चयनित महिला को उनके गांव तथा उनके ब्लॉक में काम करने के लिए अधिकृत किया जाएगा |

BC सखी योजना ट्रेनिंग

इस योजना के अंतर्गत चयन होने वाली सभी महिलाओं को ट्रेनिंग प्राप्त करने होंगे ताकि उन्हें बैंकिंग सिस्टम से संबंधित जानकारी प्राप्त हो सके| ट्रेनिंग को ज्वाइन करने के बाद ही महिलाओं को गांव पर जाने से पहले एक EXAM देना होता है| जिसमें उनकी ट्रेनिंग के दौरान सीखेंगे विभिन्न जानकारियां दी पूछे जाती है जिसका प्रशिक्षण किया जाता है जिसका सही सही उत्तर उसे देना होता है| फिर उसके बाद सुगंधित बैंक द्वारा चयनित महिलाओं को प्रधानमंत्री जनधन योजना यूनिफॉर्म तथा बी सी शक्ति सर्टिफिकेट और आईडी कार्ड जारी किया जाता है|

यदि आप भी बीसी सखी योजना के अंतर्गत बैंकिंग सखी बनना चाहते हैं तो आपके पास दो रास्ते हैं पहला तो आप NRLM समूह के जरिए सीधे बैंक के साथ बीसी सखी बन सकते हैं या फिर आप CSC digipay सखी के लिए अप्लाई कर भी की सखी बन कर काम कर सकते हैं| यह बहुत ही आसान है और बहुत ही आसानी से आप जानकारी प्राप्त कर सकते हैं|

यह हम सभी जानते हैं कि उत्तर प्रदेश सबसे अधिक जनसंख्या वाला प्रदेश है| यूपी सरकार द्वारा ही बीसी सखी योजनाओं को शुरू करने की पहल की गई है जिसके अंतर्गत लोगों को सेवाएं प्रदान की जाएंगी| यो एक बड़े स्तर पर शुरू की गई योजना है क्योंकि पहले चरण में इस योजना के अंतर्गत 52000 बैंकिंग कॉर्पोरेट सखियों की भर्ती की जाएगी| यह महिलाओं को रोजगार प्राप्त करने का एक बेहतर मौका है| महिलाओं के लिए यह रोजगार का बहुत ही अच्छा अवसर है|

Leave a Comment

Your email address will not be published.